Spread the love

डॉ प्रेम सागर शर्मा/नीरज राज सक्सेना

कृषि प्रधान देश भारतवर्ष में अक्सर कृषि यंत्रों व अन्य दुर्घटनाओं में कृषक भाई जो कि हमारे अन्नदाता हैं,अंग भंग का शिकार होकर अपने हाथ,पैर व अन्य अंग खो कर सदैव के लिए अपाहिज हो जाते हैं और जीवन भर के लिए दूसरों पर निर्भर हो जाते हैं.उनके इस दर्द को समझने और बाँटने के प्रयास किसी ने नहीं किये.सरकारी मदद का रास्ता इतना टेढा और भागदौड़ भरा होता है कि एक आम इंसान और खासकर निर्धन व्यक्ति के लिए उस राहत को पाना नामुमकिन सा हो जाता है.
उनके इस अकथनीय दर्द को निशक्त जन सेवा संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष अमृतलाल ने समझा और बिना किसी कागजी कार्यवाही और दौडभाग के पूर्णतया निशुल्क रूप से उनको कृत्रिम हाथ,पैर,बैशाखी,ट्राईसाइकिल,व्हील चेयर,सुनने की मशीनें,चश्मे,मोतियाबिंद के आपरेशन आदि उपलब्ध करा रहे हैं.पिछले १५ सालों में ७०००० से ज्यादा लोगों को वे खुशियाँ दे चुके हैं,उन्हें आत्मनिर्भर बना चुके हैं.
अब उनका नया कार्य ये हो रहा है कि अमेरिका से आयातित ऐसे कृत्रिम हाथ ऐसे लोगों को प्रदान करा रहे हैं,जिनसे असली हाथ के समान ही अपने अधिकांश कार्यों को किया जा सकता है.
२८ जनवरी के कैम्प में उन्होंने ४१ विकलांगों को ऐसे हाथ प्रदान कराये जाने हेतु पंजीकरण कराया जा चुका हैं और अभी ५९ और विकलांगों को ये हाथ लगवाये जाने हैं.ये संख्या पूर्ण होने के बाद नए लक्ष्य को निर्धारित कर ये कार्य आगे बढाया जाएगा.जिस भी व्यक्ति को इस हाथ की आवश्यकता है वे डॉ अनिल कमल,निकट थाना सुनगढ़ी पीलीभीत,डॉ प्रेम सागर शर्मा,डॉ गोखले वाली गली,सुनगढ़ी पीलीभीत तथा डॉ इब्राहीम कुरैशी,शिफा हॉस्पिटल,स्टेशन रोड न्यूरिया हुसैनपुर,पीलीभीत से संपर्क कर पंजिकरण करा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

five × two =